Tuesday, 9 October 2018

भिलाई स्टील प्लांट में धमाका, चार लोगों की मौत

भिलाई स्टील प्लांट में धमाका, चार लोगों की मौत

blast-in-bhilai-steel-plant-four-employees-died

छत्तीसगढ़ के भिलाई स्टील प्लांट में मंगलवार को काम के दौरान धमाका हो गया, जिसमें चार कर्मचारियों की मौत हो गई, वहीं 8 लोग बुरी तरह झुलस गए हैं। घायलों के सेक्टर नौ अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

blast-in-bhilai-steel-plant-four-employees-died


सूत्रों के मुताबिक कोको ओवन में गैस सप्लाई करने वाली पाइप में दो विस्फोट हुए हैं। हालांकि अभी विस्फोट होने के कारणों के बारे में खुलासा नहीं हुआ है। हादसे की जानकारी मिलते ही प्लांट के आला अधिकारी व पुलिस अधिकारी घटना स्थल पर पहुंच गए हैं। गौरतलब है कि भिलाई स्टील प्लांट में कई वर्षों से मेंटेनेंस कार्य में विलंब होने को लेकर अक्सर सवाल उठते रहे हैं।

Monday, 8 October 2018

देश की पहली मिस ट्रांसक्वीन बनी राज्य की वीणा, मुंबई में जीता खिताब

देश की पहली मिस ट्रांसक्वीन बनी राज्य की वीणा, मुंबई में जीता खिताब

chhattisgarhs-veena-win-first-miss-transqueen-india-2018-title

छत्तीसगढ़ की वीणा सेंद्रे देश की पहली मिस ट्रांसक्वीन चुनी गई हैं। मुंबई में आयोजित नेशनल लेवल ब्यूटी कॉन्टेस्ट में वीणा ने तमिलनाडु की नमिता अम्मू को मात देकर खिताब अपने नाम किया। मिस छत्तीसगढ़ रह चुकी वीणा रायपुर के मंदिरहसौद की रहने वाली हैं।

वीणा ने कहा कि मेरी जीत का श्रेय छत्तीसगढ़ के लोगों को जाता है, जिनके वोटों से मैं विनर बनी। वीणा रविवार को इस कॉम्पीटिशन में ऑनलाइन वोटिंग के आधार पर विनर घोषित हुईं। इस प्रतियोगिता में देशभर से 20 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया था। बता दें कि वीणा लखनऊ फैशन वीक, बेंगलूरु फैशन वीक, ऑल इंडिया टेक्सटाइल फैशन वीक और मुंबई फैशन वीक में रैंपवॉक कर चुकी हैं। वीणा मॉडल के अलावा प्रोफेशनल बैले डांसर और मेकअप आर्टिस्ट भी हैं।

रायपुर फैशन और ब्यूटी कॉन्टेस्ट में छत्तीसगढ़ का नाम हमेशा से सुर्खियों में रहा है। एक बार फिर वीणा ने देशभर में राज्य का नाम रोशन किया है। मंदिर हसौद की वीणा सेंद्रे देश की सबसे खूबसूरत ट्रांसवीमन का खिताब अपने नाम कर लिया है। रविवार को मुंबई में आयोजित कॉम्पीटिशन में उन्हें यह जीत हासिल हुई। उन्होंने पत्रिका से मोबाइल पर अपनी खुशी जाहिर करते हुए चर्चा की।

Friday, 5 October 2018

नोबल पुरस्कार 2018: चिकित्सा, रसायन, भौतिकी तथा शांति क्षेत्र में पुरस्कार विजेताओं की घोषणा

नोबल पुरस्कार 2018: चिकित्सा, रसायन, भौतिकी तथा शांति क्षेत्र में पुरस्कार विजेताओं की घोषणा

Nobel Prize 2018: Declaration of award winners in the field of medicine, chemistry, physics and peace

नोबेल पुरस्कार समिति द्वारा 02 अक्टूबर 2018 को भौतिकी के नोबेल पुरस्कारों की घोषणा की इस बार भौतिकी का नोबेल तीन लोगों को दिया जाएगा, जिसमें आर्थर अशकिन और गेर्राड मौरोउ और डोना स्ट्रिकलैंड का नाम शामिल है. इस पुरस्कार में आधा भाग आर्थर अशकिन जबकि आधे भाग में से गेर्राड मौरोउ और डोना स्ट्रिकलैंड को सम्मानित किया गया है.

भौतिकी में नोबेल पुरस्कार 2018

  • नोबेल पुरस्कार इन वैज्ञानिकों को लेजर भौतिकी के फील्ड में अहम अविष्कार करने के लिए दिया गया है.
  • डोन्ना स्ट्रिकलैंड भौतिकी का नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाली तीसरी महिला वैज्ञानिक हैं.
  • आर्थर एश्किन अमेरिकन वैज्ञानिक हैं, जिनके ऑप्टिकल ट्वीजर्स और बायोलॉजिकल सिस्टम्स के संबंध में किए गए प्रयोगों को रॉयल स्वीडिश एकेडमी ने मान्यता दी है.
  • गेरार्ड मोरोउ (फ्रांस) और डोन्ना स्ट्रिकलैंड (कनाडा) को हाई-इंटेसिटी, अल्ट्रा शॉर्ट ऑप्टिकल पल्स को जेनरेट करने के तरीके के लिए नोबेल पुरस्कार के लिए चुना गया है.
  • पिछले वर्ष भी भौतिकी का नोबेल पुरस्कार तीन वैज्ञानिकों रेनर वीस, बैरी बैरिश और किप थ्रोन को दिया गया था. इन तीनों वैज्ञानिकों को गुरुत्वाकर्षण तरंगों का पता लगाने के लिए नोबेल पुरस्कार दिया गया था.
 रसायन का नोबेल पुरस्कार 2018
  • रसायन का नोबेल भी तीन लोगों को दिया गया जिसमें फ्रांसेस एच. एरनॉल्ड, जॉर्ज पी स्मिथ और सर ग्रेग्रॉरी पी विंटर का नाम शामिल है.
  • इसमें आधा भाग फ्रांसेस एच. एरनॉल्ड को और आधे भाग में से जॉर्ज पी स्मिथ और सर ग्रेग्रॉरी पी विंटर को सम्मानित किया जाएगा.
चिकित्सा में नोबेल पुरस्कार 2018
  • इस बार चिकित्सा के क्षेत्र में दो लोगों को सामूहिक तौर पर यह पुरस्कार दिया जा रहा है.
  • जेम्स पी एलिसन और तासुकू होंजो को कैंसर थेरपी की खोज के लिए यह सम्मान दिया जा रहा है.
  • कैंसर की दुर्लभ बीमारी की इलाज के लिए दोनों वैज्ञानिकों ने ऐसी थेरपी विकसित की है.
  • इससे शरीर की कोशिकाओं में इम्यून सिस्टम को कैंसर ट्यूमर से लड़ने के लिए मजबूत बनाया जा सकेगा.
शांति में नोबेल पुरस्कार 2018
  • ओस्लो में नॉर्वे की कमेटी ओर से शांति पुरस्कार की घोषणा कर दी गई है.
  • डेनिस मुकवेगे और नादिया मुराद  को नोबेल शांति पुरस्कार के लिए चुना गया है.
  • इन दोनों का यौन हिंसा को युद्ध के हथियार की तरह इस्तेमाल होने के खिलाफ प्रयास में बड़ा योगदान रहा है.

Wednesday, 3 October 2018

छत्तीसगढ़ लोकसेवा आयोग ने जारी किया नोटिफिकेशन, 160 पदों के लिए होंगी भर्तियां

छत्तीसगढ़ लोकसेवा आयोग ने जारी किया नोटिफिकेशन, 160 पदों के लिए होंगी भर्तियां

/cgpsc-recruitment-2018-chhattisgarh-public-service-commission-apply-for-160-excise-duty-inpector-accounts-posts

छत्तीसगढ़ पब्लिक सर्विस कमीशन CG PSC ने 160 अकाउंट्स ऑफिसर, एक्साइज सब-इंस्पेक्टर और दूसरे पदों के लिए नोटिफिकेशन जारी किया है. इन पदों के लिए प्रीलिम्स की परीक्षाएं 17 फरवरी 2019 को होंगी. इनकी मेंस परीक्षाएं 21, 22, 23 और 24 जून को होंगी. इन पदों के लिए आवेदन प्रक्रिया 7 दिसंबर से शुरू होगी. आवेदन 5 जनवरी को रात 12 बजे तक कमीशन की ऑफिशियल वेबसाइट psc.cg.gov.in पर जाकर आवेदन कर सकते हैं.

ऑनलाइन आवेदन करने की तिथि 07/12/2018 मध्याह्न 12:00 बजे से दिनांक ०05/01/2019 रात्रि 11:59 बजे तक

आयु सीमा- डिप्टी पुलिस सुपरिटेंडेंट के पद पर अप्लाई करने के लिए उम्मीदवार की उम्र 21 से 28 साल के बीच होनी चाहिए. दूसरे पदों के लिए आवेदन करने के लिए आवेदक की उम्र 21 से 30 साल के बीच होनी चाहिए

योग्यता- इन पदों पर आवेदन करने के लिए आवेदक को किसी मान्यताप्राप्त यूनिवर्सिटी या कॉलेज से ग्रेजुएट होना जरूरी है. अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर जाकर ऑफिशियल नोटिफिकेशन पढ़ लें- http://www.psc.cg.gov.in/sites/default/files/adv-sse-2018.pdf

आवेदन शुल्क-
सामान्य वर्ग- 400 रुपए
आरक्षित वर्ग- 300 रुपए

छत्तीसगढ़ में पहली बार लैंग्वेज मैपिंग, अब किताबों में सभी जनजातीय बोलियां

छत्तीसगढ़ में पहली बार लैंग्वेज मैपिंग, अब किताबों में सभी जनजातीय बोलियां

raipur-language-mapping-for-first-time-in-chhattisgarh-now-all-tribal-languages-in-the-books

स्कूल शिक्षा विभाग ने पहली बार प्रदेश की लगभग सभी जनजातीय बोलियों की मैपिंग कराई है। सर्वेक्षण के आधार पर प्रदेश में 42 जनजातियों की 42 तरह की बोलियां हैं। प्राइमरी स्तर पर बच्चों को उनकी बोलियों के आधार पर पढ़ाई करवाई जाएगी। इसके लिए स्कूल शिक्षा विभाग और आदिम जाति विकास विभाग ने संयुक्त पहल की है। आदिम जाति विकास विभाग की मदद से राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) ने इस पर पठन-सामग्री बनाना शुरू कर दिया है। फिलहाल जनजातीय बोलियों के आधार पर संदर्भ ग्रंथ जुटाने की प्रक्रिया चल रही है।

कोई भी विद्वान चाहे तो जनजातियों की बोलियों से सम्बंधित ग्रंथ एससीईआरटी को दे सकते हैं। फिलहाल विशेष जनजातीय बोलियों पर फोकस किया जाएगा। 19 जिलों में अगले सत्र से ही किताबों में विभिन्न बोलियां मिलेंगी। पहली और दूसरी कक्षा की पुस्तकों में क्षेत्रीय बोलियों से पढ़ाई करवाई जाएगी। रिसर्चकर्ताओं का दावा है कि बच्चों को उनकी प्रारंभिक भाषा यानी मातृभाषा में पढ़ाई कराई जाए तो उनमें सीखने की क्षमता अधिक होती है। चूंकि प्रदेश के बच्चे बोलते तरह-तरह की बोलियां हैं और उन्हें पहली कक्षा में हिन्दी पढ़ना पड़ता है। ऐसे में उन्हें दिक्कत होती है।

एससीईआरटी ने दो साल पहले छत्तीसगढ़ में बोली जाने वाली कुछ प्रमुख बोलियों में छत्तीसगढ़ी समेत कुडुख, हल्बी, गोंडी, सरगुजिया आदि पर कुछ पठन सामग्री किताबों में डाली है, लेकिन यह नाकाफी है। प्रदेश में 42 तरह की जनजातीय बोलियां हैं। सभी इलाकों के बच्चों के लिए अब काम शुरू हो गया है।

कौन सी अन्य बोलियां

छत्तीसगढ़ में बोली जाने वाली बोलियों में छत्तीसगढ़ी रायपुर, बिलासपुर और दुर्ग में, बैगानी बैगा जाति के लोग यह बोली बोलते हैं। यह बोली कवर्धा और बिलासपुर में बोली जाती है। खल्टाही रायगढ़ के कुछ हिस्सों में, कोरबा में सदरी कोरबा जशपुर में रहने वाले कोरबा जाति के लोग जो बोली बोलते हैं, वह सदरी कोरबा है। बिंझवारी रायपुर व रायगढ़ के कुछ हिस्सों में, कलंगा यह ओडिशा के सीमावर्ती क्षेत्र में, भूलिया सोनपुर, बस्तरी या हलबी बस्तर में बोली जाती है।
प्रदेश में कमार, अबूझमाड़िया, पहाड़ी कोरवा, बिरहारे और बैगा विशेष पिछड़ी जनजाति हैं। राज्य में जनजाति संस्कृति एवं भाषा अकादमी का गठन भी हो चुका है। प्रदेश में 42 जनजाति समूहों में उसकी उपजातियों को संविधान में अनुसूचित जनजाति के रूप में अधिसूचित किया गया है। जनजाति समुदाय की भाषा-बोली के संरक्षण के लिए भी यह पहल कारगर होगी।

जस्टिस रंजन गोगोई बने देश के 46वें चीफ जस्टिस

जस्टिस रंजन गोगोई बने देश के 46वें चीफ जस्टिस

Ranjan Gogoi Sworn In As Chief Justice Of India

जस्टिस रंजन गोगोई ने बुधवार  03 अक्टूबर 2018 को देश के 46वें चीफ जस्टिस पद की शपथ ली। जस्टिस गोगोई इस पद पर पहुंचने वाले पूर्वोत्‍तर भारत के पहले मुख्‍य न्‍यायाधीश हैं। 17 नवंबर 2019 तक उनका कार्यकाल होगा। बतौर सीजेआई जस्टिस गोगोई ने पहले केस की सुनवाई में ही सख्त अंदाज दिखाया और चुनाव सुधार को दायर याचिका खारिज कर दी।  

12 फरवरी 2011 को जस्टिस गोगोई पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस बने थे. 23 अप्रैल 2012 को वह सुप्रीम कोर्ट में आए। सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के तौर पर जस्टिस गोगोई का कार्यकाल एक साल, एक महीने और 14 दिन का होगा. वह 17 नवंबर 2019 को सेवानिवृत्त होंगे।

आज ही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रंजन गोगोई को चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया के पद की शपथ दिलवाई है। मंगलवार 02 अक्टूबर 2018 को जस्टिस दीपक मिश्रा का बतौर CJI कार्यकाल खत्म होने के बाद उन्हें यह जिम्मेदारी मिली है। आज सुप्रीम कोर्ट में कई अहम मामलों की सुनवाई होनी है, जिनमें राजधानी दिल्ली में हो रही सीलिंग, जेलों में रिफॉर्म का मसला भी शामिल है। 

छत्तीसगढ़वासियों को एशिया के सबसे बड़े बर्न यूनिट अस्पताल की सौगात

छत्तीसगढ़वासियों को एशिया के सबसे बड़े बर्न यूनिट अस्पताल की सौगात

chhattisgarh-gets-asia-largest-burn-unit-hospital

गांधी जयंती के अवसर पर छत्तीसग़ढ़ की जनता को एशिया के सबसे बड़े बर्न यूनिट अस्पताल की सौगात मिली है। अस्पताल में 20 बेड का अत्याधुनिक बर्न यूनिट की स्थापना की गई है। अस्पताल प्रबंधन का दावा है कि बर्न यूनिट के मामले में इस अस्पताल में एशिया का सबसे बड़ा सेटअप तैयार किया गया है।

अस्पताल के शुरु होने से एक तरफ जहां एमडी, एमसीएच जैसे कोर्सेस की शुरुआत की जाएगी वहीं दूसरी तरफ रिसर्च से संबंधित काम को भी बढ़ावा मिलेगा। मंगलवार को मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के हाथों डीकेएस सुपरस्पेशिलिटि अस्पताल की शुरुआत की गई है। इस दौरान सांसद रमेश बैश, कृषि मंत्री वृजमोहन अग्रवाल, स्वास्थ्य मंत्री अजय चन्द्राकर, पीडब्ल्यूडी मंत्री राजेश मूणत, विधायक श्रीचंद सुंदरानी मौजूद थे।