Monday, 13 August 2018

सहायक श्रम पदाधिकारी, श्रम निरीक्षक एवं श्रम उप निरीक्षक भर्ती परीक्षा (LOI 2018) हेतु प्रवेश पत्र

सहायक श्रम पदाधिकारी, श्रम निरीक्षक एवं श्रम उप निरीक्षक भर्ती परीक्षा (LOI 2018) हेतु प्रवेश पत्र

Admit Card for Assistant Labor Officer, Labor Inspector and Labor Deputy Inspector Recruitment Examination (LOI 2018)

छत्तीसगढ़ व्यावसायिक परीक्षा मंडल, रायपुर द्वारा श्रमायुक्त कार्यालय, नया रायपुर के अंतर्गत सहायक श्रम पदाधिकारी, श्रम निरीक्षक एवं श्रम उप निरीक्षक के पदों की पूर्ति हेतु दिनांक 19.08.2018, रविवार को लिखित परीक्षा आयोजित की जावेगी ।  
उक्त परीक्षा के प्रवेश पत्र व्यापम के वेबसाइट पर दिनांक को अपलोड कर दिए गए हैं। ऑनलाइन आवेदन करते समय प्राप्त रजिस्ट्रशन आई डी नंबर को एंटर कर अभ्यर्थी इंटरनेट से परीक्षा प्रवेश पत्र  प्राप्त क्र सकेंगे।  

Thursday, 9 August 2018

सहायक ग्रेड- 3, डाटाएंट्री ऑपरेटर एवं कंप्यूटर ऑपरेटर (AGDO) संयुक्त भर्ती परीक्षा- 2018

सहायक ग्रेड- 3, डाटाएंट्री ऑपरेटर एवं कंप्यूटर ऑपरेटर (AGDO) संयुक्त भर्ती परीक्षा- 2018

Assistant Grade-III, Data Entry Operator and Computer Operator (AGDO) Joint Recruitment Examination- 2018

संयुक्त भर्ती परीक्षा- 2018 (सहायक ग्रेड- 3, डाटाएंट्री ऑपरेटर, कंप्यूटर ऑपरेटर, स्टेनोग्राफर (हिंदी/अंग्रेजी) एवं स्टेनो टाइपिस्ट (हिंदी) पदों हेतु ) के ऑनलाइन आवेदन करने संबंध में प्रेस विज्ञप्ति 

AGDO18– डाटा एंट्री ऑपरेटर, असिस्टेंट ग्रेड ३, कंप्यूटर ऑपरेटर) SGST18 – स्टेनोग्राफर एवं स्टेनो टाइपिस्ट) के पदों पर सीधी भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किया है। इन पदों पर प्रतियोगी परीक्षा के माध्‍यम से सीधी भर्ती के लिए विभाग ने छत्‍तीसगढ़ व्‍यावसायिक परीक्षा मंडल रायपुर के माध्‍यम से 07 अगस्‍त 2018 से 04 सितम्बर 2018  तक ऑनलाईन आवेदन आमंत्रित किया है।आवेदन करने के इच्छुक उम्मीदवार जो इन पदों के लिए निर्धारित शैक्षणिक योग्यता एवं अन्य अर्हताओं की पूर्ति करते हों, वे निर्धारित समय-सीमा के भीतर विभाग को अपना आवेदन प्रस्‍तुत कर सकते हैं।

परीक्षा कार्यक्रम निम्नानुसार है 
  • परीक्षा की तिथि : 30 सितम्बर 2018 (रविवार) पूर्वान्ह 09:00 बजे से 12:15 बजे तक 
  • ऑनलाइन आवेदन पत्र भरने की प्रारंभिक तिथि : 07.08.2018 (मंगलवार) 
  • ऑनलाइन आवेदन पत्र भर कर ऑनलाइन परीक्षा शुल्क भुगतान करने की अंतिम तिथि : 04-09-2018 (मंगलवार) 
  • व्यापम की वेबसाइट पर प्रवेश पत्र जारी करने की तिथि : 24.09.2018 (सोमवार)

परीक्षा शुल्क 
  • सामान्य वर्ग : 350 /- 
  • अन्य पिछड़ा वर्ग : 250 /-
  • अनुसूचित जाती / जनजाति / निःशक्तजन : 200 /-

सहायक ग्रेड- 3, डाटाएंट्री ऑपरेटर एवं कंप्यूटर ऑपरेटर (AGDO) संयुक्त भर्ती परीक्षा- 2018

Friday, 3 August 2018

देशभर में पीएम आवास निर्माण में कोंडागांव रहा दूसरे स्थान पर

देशभर में पीएम आवास निर्माण में कोंडागांव रहा दूसरे स्थान पर, प्रदेश में सबसे अव्वल कोण्डागांव, 99% लक्ष्य पूरा

konadagaon-district-remained-second-in-the-country-99-percent-completed

जुलाई माह के रैंकिंग के आधार पर प्रधानमंत्री आवास निर्माण के मामले में प्रदेशभर में सबसे आगे कोण्डागांव जिला चल रहा हैं। यह सब मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत डॉ संजय कन्नौजे की कार्यप्रणाली व निरंतर मानिटरिंग के चलते संभव हो सका हैं। ढेड़ साल पहले जब सीईओ जिपं की यहॉ पदस्थापना हुई थी उस समय कोण्डाागवं जिला पीएम अवास के मामले में 25 वे रैंक याने पीछे पायदान से तीसरे नंबर पर था। सीईओं के लगातार शहर के साथ ही अंदरूनी इलाकों में पंचायतों में की गई निर्माण कार्यो की मानिटरिंग के व मैदानी कमचारियों के बेहतर कार्य के चलते आज हमारा जिला प्रदेश के 27 जिलों में सबसे आगे हैं।

नेशनल रैंकिग में दूसरे स्थान पर: जानकारी के मुताबिक जिले को जिले को वर्ष 2016-17, 2017-18 को मिले प्रधानमंत्री आवास निर्माण के लक्ष्य को 99 प्रतिशत पूर्ण करने के मामले में जिला कोण्डागांव देश में दूसरे स्थान पर अपनी पहचान आज बना पाया हैं। सीईओ कन्नौजे ने बताया कि जिले में 01 कमरा कच्चे मकान वाले कुल 6164 पक्के आवास का निर्माण किया जाना है, जिसे 2018-19 तक पूर्ण कर लिया जावेगा।

17 हजार हितग्राहियों को इंदिरा आवास से लाभान्वित किया जा चुका है : जिले में अभी 01 कमरा कच्चा मकान के हितग्राहियों को लाभान्वित किया जा रहा है। 2020-22 तक 02 कमरे कच्चे मकान के हितग्राहियों को प्राथमिकत क्रम में आवास प्रदान किया जावेगा। इससे पूरे जिले में लगभग 17 हजार हितग्राहियों को इंदिरा आवास से लाभान्वित किया जा चुका है। उन्होंने इसके लिये कलक्टर का बेहतर मार्गदर्शन व अपने जिले के टीम को इसका श्रेय दिया हैं।

Thursday, 2 August 2018

चौतरफा विरोध के बाद एनएमडीसी इस्पात संयंत्र का निजीकरण रुका

चौतरफा विरोध के बाद एनएमडीसी इस्पात संयंत्र का निजीकरण रुका

Privatization of NMDC steel plant stopped after all-round protests

नगरनार में 16 हजार करोड़ रुपए की लागत से बन रहे एनएमडीसी इस्पात संयंत्र का निजीकरण पर रोक लगा दी गई है। इसका लोकार्पण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों होना है। पिछले मई महीने में ही विकास यात्रा में पहुंचे मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह ने इस बात के संकेत दे दिए थे। इधर भारत सरकार ने चौतरफा दबाव के बाद इस स्टील प्लांट का निजीकरण टाल दिया है।

- चौतरफा विरोध के कारण नगरनार में 16 हजार करोड़ रुपए की लागत से बन रहे एनएमडीसी इस्पात संयंत्र के निजीकरण पर रोक लगा दी गई है। भारत सरकार के नई दिल्ली स्थित उद्योग भवन से डिप्टी सेक्रेटरी जीपी मीणा ने छग सरकार के वाणिज्य व उद्योग विभाग के ज्वाइंट सेक्रेटरी यशवंत कुमार के नाम 1 अगस्त को भेजे गए पत्र में साफ कर दिया है कि नगरनार स्थित एनएमडीसी स्टील प्लांट का विनिवेश फिलहाल टाल दिया गया है।

- पत्र में कहा गया है कि 19 जून 2018 के पत्र में छत्तीसगढ़ सरकार ने स्टील प्लांट के विनिवेशीकरण पर विरोध जताते हुए इसे निरस्त करने की मांग की थी। पत्र के मुताबिक स्ट्रेटेजिक विनिवेश के संबंध में गठित इंटर मिनिस्ट्रियल ग्रुप (आईएमजी) ने नगरनार स्टील प्लांट के विनिवेश की प्रक्रिया को टालने की अनुशंसा की है।

Friday, 27 July 2018

बस्तर-सरगुजा में लीथियम युक्त माइका खनिज के प्रमाण मिले

बस्तर-सरगुजा में लीथियम युक्त माइका खनिज के प्रमाण मिले

proof-of-lithium-rich-mica-minerals-found

बस्तर और सरगुजा में लीथियम युक्त माइका खनिज के प्रमाण मिले हैं। इस खनिज का उपयोग अंतरिक्ष यान और मोबाइल सिम बनाने में होता है। ये खनिज कार्बन का कम उत्सर्जन करता है, इसलिए दुनिया में इसकी काफी मांग है। सामरिक महत्व के कारण खनिज मिलने के स्थानों का नाम गोपनीय रखा है। भारतीय भू-सर्वेक्षण महानिदेशालय ने प्रदेश के खनिज विभाग को पूर्वेक्षण की अनुमति भी दे दी है। इस खोज से राज्य के खनिज वैज्ञानिक उत्साहित हैं।

इसके अलावा बलरामपुर जिले में टंगस्टन, महासमुंद, बलौदाबाजार, धमतरी और गरियाबंद में हीरे की किंबरलाइट क्लोन रॉक की खोज कर रहा है। उपमहानिदेशक शब्बीर हुसैन के मुताबिक महासमुंद के सराईपाली में गोल्ड, ग्लूकोनाइट सरगुजा में ग्रेफाइट, जशपुर में बाक्साइट की खोज का कार्य चल रहा है। खनिज निदेशालय की टीमें इस साल छत्तीसगढ़ में निकल, क्रोमियम, लीथियम और मालेंडेनम की खोज में भी जुटी हुई हैं।

इन खनिजों के मिलने के भी संकेत :सीरियम (सीई), डिस्प्रोशियम (डीवाई), इरबियम (ईआर), युरोपियम (ईयू), गैडोलिनियम (जीडी), होल्मियम (एचओ), लैंथेनम (एलए), लुटीशियम (एलयू), निओडियम (एनडी), प्रासियोडाइमियम (पीआर), प्रोमीथियम (पीएम), समेरियम (एसएम), स्कैंडियम (एससी), टर्बियम (टीबी), थुलियम (टीएम), इटरबियम (वाईबी) और इट्रियम (वाई)।

चंद्रप्रभ भगवान की 21 फीट ऊंची और 80 टन वजनी मूर्ति दुर्ग में हुई स्थापित

चंद्रप्रभ भगवान की 21 फीट ऊंची और 80 टन वजनी मूर्ति दुर्ग में हुई स्थापित

Chandraprabhu God installed 21 feet high and 80 tonnes of statue in Murli Durg

शिवनाथ तट पर सोमवार सुबह श्री चंद्रप्रभ तीर्थ की स्थापना पर भगवान पार्श्वनाथ और सुब्रतनाथ के साथ भगवान चंद्रप्रभ की 21 फीट 3 इंच प्रतिमा स्थापित की गई। 11 हजार मंत्रोच्चार के बीच यह प्रतिमा स्थापना हुई। यह प्रतिमा पद्मासन मुद्रा में देश की सबसे बड़ी प्रतिमा है। पार्श्व तीर्थ नगपुरा तीर्थ के बाद प्रख्यात जैन तीर्थों की सूची में अब दुर्ग का नाम भी शामिल हो जाएगा। देशभर से भगवान चंद्रप्रभ के अनुयायी स्थापना उत्सव में शामिल हुए। श्री दिगंबर जैन पंचायत द्वारा आयोजित स्थापना उत्सव सुबह छह बजे से ही शुरू हो गई।

बिजौलिया पत्थर से बनी है मूर्ति

चंद्रप्रभ भगवान की 21 फीट 3 इंच की मूर्ति के प्रदाता देवेन्द्र सजल काला परिवार है। इन्होंने यह मूर्ति श्री नसिया जी तीर्थ क्षेत्र को प्रदान की है। ज्ञातव्य हो कि मूर्ति बिजौलिया पत्थर की बनी है। कार्यक्रम के दौरान सुबह व शाम वात्स्ल्य भोजन समाज द्वारा रखा गया था। सायंकाल के भोजन के दाता धूपचंद, अनिल छाबड़ा व भोजन प्रभारी अजय सेठी, ज्ञानचंद गंगवाल व दीपक लुहड़िया थे। पूजन कार्यक्रम के उपरांत मूर्ति रखने का कार्य सुबह 11 बजे से प्रारंभ हुआ था, लेकिन मूर्ति का वजन लगभग 80 टन होने के कारण शाम 4 बजे मूर्ति विराजमान हो पायी। मूर्ति विराजमान होने पर समस्त समाज भावविप्ल हो गया था। दिगंबर जैन समाज के समस्त व्यापारियों ने अपने व्यापार बंद कर रखा।

Tuesday, 24 July 2018

रायपुर से बेंगलुरू के लिए राजधानी के हवाई यात्रियों को नई सौगात

रायपुर से बेंगलुरू के लिए राजधानी के हवाई यात्रियों को नई सौगात

raipur-new-flights-for-raipur-to-bangalore

 रायपुर से बेंगलुरू के लिए राजधानी के हवाई यात्रियों को नई सौगात मिलने वाली है। इसके तहत अगले माह पांच अगस्त से इंडिगो एयरलाइंस ने फ्लाइट शुरू करने की घोषणा की है। ट्रैवल्स कारोबारियों का कहना है कि रायपुर से बेंगलुरू के लिए फ्लाइट देने की कई दिनों से मांग की जा रही थी।

ट्रैवल्स संचालकों का कहना है कि रायपुर से बेंगलुरू फ्लाइट शुरू किए जाने की मांग की जा रही थी। यहां से यात्री भी काफी मिलेंगे। ट्रैवल्स कारोबारियों का कहना है कि रायपुर से बेंगलुरू के लिए शुरू होने वाली इस सीधी फ्लाइट से दूसरा बड़ा फायदा यात्रियों को दूसरे क्षेत्र के लिए अच्छी कनेक्टिविटी का मिलना भी है। दोपहर के वक्त ही बेंगलुरू पहुंचने के कारण वहां से दूसरे शहरों की कनेक्टिविटी फ्लाइट भी मिल जाएगी।

फ्लाइट का शेड्यूल
इंडिगो की यह फ्लाइट रायपुर से बेंगलुरू के लिए सुबह 10.10 बजे उड़ान भरेगी तथा दोपहर 12.10 बजे बेंगलुरू पहुंचेगी। इसके साथ ही बेंगलुरू से वापसी के लिए सुबह 7.45 बजे फ्लाइट बेंगलुरू से उड़ान भरेगी और सुबह 9.35 बजे रायपुर पहुंचेगी। इस फ्लाइट का फेयर अभी 5000 रुपये है।

रायपुर-जगदलपुर फ्लाइट भी आज से
फ्लाइट में आई तकनीकी खराबी की वजह से इस महीने की नौ जुलाई से बंद पड़ी रायपुर-जगदलपुर फ्लाइट भी बुधवार 25 जुलाई से शुरू हो रही है। इस घरेलू विमान सेवा के शुरू होने से यात्री काफी राहत महसूस कर रहे हैं और इस फ्लाइट के लिए ट्रैफिक भी काफी अच्छा मिल रहा है।

गौरतलब है कि यह फ्लाइट पिछले महीने 15 जून से शुरू हो गई है तथा उसके तकनीकी खराबी की वजह से नौ जुलाई को बंद करनी पड़ी। घरेलू हवाई सेवाओं को और बढ़ाने के लिए अंबिकापुर और बिलासपुर से भी जल्द ही हवाई सेवा शुरू करने की तैयारी की जा रही है। इन क्षेत्रों में हवाई सेवा शुरू करने के लिए रायपुर विमानतल अथॉरिटी द्वारा लाइसेंस के लिए अनुमति भी मांगी गई है।